Beta sher to Baap savasher

एक पिता ने अपने बेटे को दो-तीन झापड़ रसीद कर दिए,
थोड़ी देर बाद प्यार से सॉरी बोल दिया।

बेटा:
डैड, एक कागज लो, उसे मोड़ो, रोल बनाओ। वापस उस
कागज को खोलो और देखो क्या वह पहले जैसा ही कड़क है

पिता: नहीं

बेटा:
सही कहा, रिश्ते भी ऐसे ही होते हैं। सॉरी से काम नहीं चलता।

पिता:
बेटा बाहर मेरा स्कूटर खड़ा है।
जाओ और उस पर एक किक मारो।
बताओ क्या वह स्टार्ट हुआ।

बेटा: नहीं हुआ।

पिता: अब तीन-चार किक मारो।

बेटा: स्टार्ट हो गया।

पिता:
तू भी वही स्कूटर है, कागज नहीं।
ज्ञान मत दे मुझे!  🙂 🙂

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s